डिजिटल विज्ञापन - Ad
लाइफस्टाइल

करेले का जूस पीने के फायदे, ऐसे बनाए करेले का जूस यह आसान विधि

करेले के जूस और करेले के औषधिय गुणों को भारतीय होम्योपैथिक

करेले का जूस पीने के फायदे, ऐसे बनाए करेले का जूस यह आसान विधि

Benefits of drinking bitter gourd juice, this easy method to make bitter gourd juice

करेले के जूस और करेले के औषधिय गुणों को भारतीय होम्योपैथिक में भी सराहा गया है

इसीलिए होम्योपैथिक औषधि का मूल तत्व करेला ही है। \

हरा करेला पके हुए सफेद पीले रंग के करेले की अपेक्षा ज्यादा लाभदायक है

इसलिए हमेशा हरे रंग के करेले का ही उपयोग करना चाहिए ।

करेले की प्रकृति या तासीर गर्म और खुश्क होती है।

करेला दो किस्म का होता है एक बड़ा करेला और छोटा करेला।

बड़े करेले की अपेक्षा छोटा करेला अधिक गुणकारी होता है।

कच्चा, हरा ,छोटे साइज़ का करेला अधिक गुणकारी होता है

करेले का जूस पीने के फायदे

benefits-of-drinking-bitter-gourd-juice

  • करेले में फास्फोरस काफी मात्रा में पाया जाता है इसीलिए यह दाँत, मस्तिष्क, हड्डी, ब्लड और अन्य शारीरिक अंगो के लिए जरुरी फास्फोरस की कमी को पूरी करता है
  • करेला का जूस कफ, पीलिया, मधुमेह, और बुखार आदि रोगों में लाभदायक है| साथ ही यह खून साफ़ करता है
  • करेले का जूस संक्रमण दूर करने वाला शरीर की रोग प्रतिरोधक (इम्यून पॉवर) बढाने वाला होता है
  • करेले की तासीर गर्म होती है इसलिए यह शरीर में गर्मी बढ़ाने वाला होता है
  • करेला का रस दर्द दूर करता है, शरीर में शक्ति पैदा करता है। करेले के जूस को खाली पेट पीना अधिक लाभदायक है। ताकि यह अच्छी तरह से शरीर के द्वारा सोख लिया जाए
  • करेले के जूस में मौजूद बीटा-कैरोटिन आंखों के लिए फायदेमंद होता है जो आंखों की कई तरह की बीमारियों को दूर रखता है और आँखों की रोशनी बढ़ाने में भी मदद करता है
  • अगर आपको खाँसी, कफ, गले में खराश की बीमारी हो तो बिना घी या तेल से बनी करेले की सब्जी खाएं आप स्वाद के अनुसार इसमें सेंधा नमक और पिसी कालीमिर्च भी डाल सकते है

करेले का जूस बनाने की विधि

How to make bitter gourd juice

  • सबसे पहले हरे ताजा करेले लें उसके बीज निकाल दें फिर उसे जूसर में डालकर जूस बना ले
  • जूस छानने के लिए बड़े छेदों वाली छलनी काम में लें, जिससे ज्यादा से ज्यादा करेले के रेशे जूस में मिले रहें
  • करेले का जूस कितना पीना चाहिए ? एक-एक गिलास (200 मि.ली.) की मात्रा में दिन में दो बार जूस पियें। प्रत्येक बार ताजा जूस ही निकाल कर पीना ज्यादा फायदेमंद है। आप चाहें तो इसमें स्वादानुसार नींबू , सेंधा नमक ,और काली मिर्च डालकर पी सकते हैं

 

Join -चौमूं की छोटी-बड़ी खबरें देखने के लिए चौमूं सिटी न्यूज़ - ब्रेकिंग न्यूज़, टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करें -
डिजिटल विज्ञापन - Ad

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker